येसुदास के 10आज भी गुनगुनाने वाले गीत 8 जनवरी, 2021 – नरेंद्र कुसनूर द्वारा

येसुदास ने 10 जनवरी को अपना 81 वां जन्मदिन मनाया।हमने उनके आज भी गुनगुनाने वाले 10 गीतों को चुना है

दक्षिण में सबसे सम्मानित नामों में से एक, के. जे. येसुदास के पास 1970 के दशक के मध्य से 1980 के दशक तक हिंदी फिल्मों में कुछ यादगार गाने थे। अधिकांश फिल्में मध्यम बजट कीथीं लेकिन साधारण कहानी वाली लोकप्रिय फिल्में भी थी ।
रवींद्र जैन, उषा खन्ना और राजकमल जैसे संगीत निर्देशकों द्वारा ऐसे गायक के गीतों की रिकार्डिंग करवाई जाती थी। दुर्भाग्य से, उन्होंने 1980 के दशक के मध्य के बाद हिंदी सिनेमा में ज्यादा काम नहीं किया।येसुदास ने 10 जनवरी को अपना 81 वां जन्मदिन मनाया।हम क्रम अनुसार उनके 10 ऐसे गीत चुनते है जो आज भी गुनगुनाए जाते है।

जानेमन जानेमन – छोटी सी बात (1976) :-येसुदास ने आशा भोसले के साथ मिलकर अमोल पालेकर और विद्या सिन्हा पर फिल्माए गए इस हिट गीत को गाया। सलिल चौधरी द्वारा संगीत दिया गया था, शानदार योगेश ने लिखा, “जानेमन जानेमन तेरे दो नयन, चोरी चोरी लेके गए देखो मेरा मन, जानेमन जानेमन”।

जब दीप जले आना – चितचोर (1976) :-अमोल पालेकर-जरीना वहाब फिल्म चितचोरयेसुदास के हिंदी पार्श्व कैरियर के लिए एक प्रमुख बढ़ावा था, जिसमें ‘गोरी तेरा गाँव बड़ा प्यारा’, ‘आज से पहले ‘और ‘तू जो मेरे सुर में’जैसे हिट गीतथे और निश्चित रूप से राग यमन में अति उत्तम रचना‘जब दीप जले आना’भी था। इसमें गायिका हेमलता भी थीं, जो अपने चरम पर थीं। संगीत और बोल रवींद्र जैन के थे।

चांद अकेला – अलाप (1977) :- कुर्ता पहने अमिताभ बच्चन पर फिल्माया गया, येसुदास के साथ उनका मधुर संगीत था। संगीत जयदेव का था, और डॉ: राही मासूम रज़ा ने पंक्तियाँ लिखीं “चाँद अकेला जाए सखी री, काहे अकेला जाए सखी री”। फिल्म में हरिवंशराय बच्चन द्वारा लिखित गीत ‘कोई गाता मैं सो जाता’भी था।

का करूँ सजनी – स्वामी (1977) :- बेग गुलाम अली खान द्वारा राग सिंध भैरवी में लोकप्रिय एक ठुमरी पर आधारित, यह राग किरवानी में फिर से तैयार किया गया और येसुदास को उनके शास्त्रीय सर्वश्रेष्ठ रूप में दिखाया गया। इस गाने को धीरज कुमार और शबाना आज़मी पर फिल्माया गया था, जिसमें राजेश रोशन ने संगीत दिया था। हालांकि मुख्य लाइनें पारंपरिक थीं, गीतकार अमित खन्ना ने इसे फिल्म संस्करण के लिए अनुकूलित कियाथा ।

https://youtu.be/R-bvaFL-IOs

मधुबन खुश्बू देता है – साजन बीना सुहागन (1978) :-इस गीत में राजेंद्र कुमार और नूतन की पुरानी जोड़ी दिखाई दी, जिसमें एक युवा पद्मिनी कोल्हापुरे भी थीं। इस गीत को उषा खन्ना ने संगीत दिया और इंदीवर ने लिखा, “मधुबन खुश्बू देता है, सागर सावन देता है, जीना उसका जीवन है, जो औरों को जीवन देता है”। यह येसुदास के सबसे रोमांटिक गीतों में से एक था।

सुनयना – सुनयना (1979) :-रचनाकार रवींद्र जैन ने इस गीत को लिखा भीथा, “सुनयना, आज इन नज़ारों को तुम देखो, और मैं तुम्हे देखते हुए देखूं, मैं बस तुम्हे देखते हुए देखूं”। येसुदास का पसंदीदागीत, इसे नसीरुद्दीन शाह और रामेश्वरी पर फिल्माया गया था।

चाँद जैसे मुखड़े पे – सावन को आने दो (1979):-अरुण गोविल और जरीना वहाब पर फिल्माया गया, यह अपने समय की हिट फिल्मों में से एक था।इस गीत को राजकमल ने संगीत प्रदान कियाऔर इंदीवर ने लिखा, “चाँद जैसे मुखड़े पे बिंदिया सितारा, नहीं भूलेगा मेरी जान, यह सितारा वो सितारा, माना तेरी नज़रों में मैं हूँ एक आवारा, हो आवारा”।

दिल के टुकड़े टुकड़े करके – दादा (1979) :-रवींद्र जैन दवारा लिखा हुआ उषा खन्ना का एक और पसंदीदा गीत, “दिल के टुकड़े टुकड़े करके मुस्कुराके चल दिए, जाते जाते यह तो बता जा, हम जीएँगे किसके लिए”यह गाना विनोद मेहरा और बिंदिया गोस्वामीकी मुख्य भूमिका में बगीचे में फिल्माया गया था ।

कहाँ से आए बद्रा – चश्मे बद्दूर (1981) :-इंदु जैन दवारा लिखे हुए राग मेघ के इस गीत को राजकमल ने फिल्माया“कहाँ से आए बद्रा, घुलता जाए कजरा”। येसुदास, हेमंती शुक्ला ने मिलकर इस गीत को गाया हैऔर गीत को दीपति नवल पर चित्रित किया गया है, जिसे विनोद नागपाल से संगीत सीखते दिखाया गया है।

सूरमाई अखियों में –सदमा (1983) :- प्रतिभाशाली संगीत निर्देशक इलैयाराजा ने गुलज़ार के लिखे इस गीत पर येसुदास के साथ काम किया। गीत की पंक्तियाँ इस तरह थी“सूरमाई अखियों में नन्हा मुन्ना एक सपना दे जा रे, निंदिया के उड़ते पाख़ी रे, अखियों में आजा साथी रे”। गीत खुश और उदास संस्करणों में थाऔर इस गीत में कमल हासन और श्रीदेवी ने अभिनय किया था।

https://youtu.be/zKD8feNC12M

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *