अपनी ज़ुबानी: महायुद्ध में सहभागी भारतीय सैनिकों पर अंजलि सोवनी

चित्रकार अंजलि सोवनी द्वारा प्रथम विश्व युद्ध के अज्ञात भारतीय शूरवीरों का सम्मान और उनकी शौर्य कथाओं का वर्णन “भगवान के लिए, यहाँ मत आना, मत आना, मत आना…..” यह …

Read More

एक अंतिम घर वापसी 15 अगस्त, 2019 – अरुणा जगतियानी द्वारा

एक अनसंग हीरो, भाई प्रताप – मेरे पिता और भारत में नए सिंध के निर्माता की अनकही कहानी। प्रताप मूलचंद द्‍यालदास (“भाई प्रताप” के नाम से मशहूर) भारत के  विभाजन  …

Read More

अच्छाई और बुराई का धर्म 15 जनवरी, 2020 – विक्रम सेठी द्वारा

विभाजन और उसकी परिचारिका पीड़ा, आज भी हम सभी के लिए स्थायी सबक है, विक्रम सेठी लिखते हैं सेठी पेशावर के धनी व्यापारी थे और 18 वीं शताब्दी की शुरुआत …

Read More

युद्ध में भावी पाकिस्तानी वायु प्रमुख के साथ संक्षिप्त वार्ता

ब्रिगेडियर अजित आप्टे (सेवानिवृत्त) लिखते हैं कि 1999 के कारगिल  संघर्ष के दौरान, लेफ्टिनेंट परवेज मेहदी पाकिस्तानी वायु सेना के वायुसेना प्रमुख बने   सोमवार, 22 नवंबर 1971,  खिली हुई धूप …

Read More

रियासतों से लेकर पावर प्ले तक – सत पॉल (सती) साहनी द्वारा

वे तब तक एक नाम थे जब तक कि सीमा पार झड़पों ने उन्हें अच्छी तरह से जाना नहीं। गिलगित और बाल्टिस्तान के भूले हुए क्षेत्रों को इस कहानी में …

Read More

बोयरा का युद्ध (एक दिलचस्प किस्सा)

भारतीय सशस्त्र बल 1971 के युद्ध में पाकिस्तान से बांग्लादेश की मुक्ति का समर्थन करने के लिए जाने जाते हैं। ब्रिगेडियर (सेवानिवृत्त) अजीत आप्टे ने धमाकेदार ब्योरा सुनाया बांग्लादेश की …

Read More

दृष्टीकोण: सबक- भारत-तिब्बत सीमा पर विशेष प्रतिनिधि संवाद

ब्रिगेडियर  जी.बी रेड्डी(सेवानिवृत्त) लिखते हैं- आकार नहीं है,  जो मायने रखता है। परंतु जो मायने रखता है वह है लड़ाई का आकार- न केवल राजनीतिक इच्छा शक्ति और सैन्य इच्छाशक्ति …

Read More

प्रथम व्यक्ति: महान युद्ध के भारतीय सैनिकों पर अंजली सोवनी

कलाकार अंजली सोवनी, प्रथम विश्वयुद्ध के अनसुने भारतीय नायकों का उत्सव मनाती हैं और उनकी कहानी साँझा करती हैं। “भगवान के लिए नहीं आना, नहीं आना, नहीं आना …”   …

Read More

क्यूं “कश्मीर छोड़ो” असफल रहा

जम्मू–कश्मीर के पुरातन राजनीति पर, राज्य की उथल–पुथल में स्वर्गीय राजनीतिक संवाददाता, सती साहनी ने अपना  बहुमूल्य अंतर्दृष्टि बताया है   कश्मीर छोड़ों आंदोलन: 1931-1947 जम्मू और कश्मीर में सांस्कृतिक …

Read More

पी.एल.ए का आर्टिलरी प्रौद्योगिकी अवशोषण, सैन्य स्तर और क्षमताएं

ब्रिगेडियर जी.बी रेड्डी(सेवानिवृत्त) लिखते हैं कि पीपल्स लिब्रेशन आर्मी (पी.एल.ए) आर्टिलरी में चार सबसे महत्वपूर्ण सफलताओं को समझना और उनकी क्षमताओं का निष्कर्ष निकालना अतिआवश्यक है। चीन ने आर्टिलरी हथियारों, …

Read More