वो सबकुछ जो वो चाहते हैं और अपनी खुशियां, ढूंढ रहे हैं

सोनवी खेर देसाई लिखती हैं कि कई मुद्दे,  उम्र बढ़ने से जुड़े हैं और समाज को समझदारी, संकल्प और इन सबके ऊपर, धिक सहानुभूति से निपटना पड़ता है।

“ मेरे साथ बूढ़े हो ! सबसे अच्छा होना बाकी है ”, कवि रॉबर्ट ब्राउनिंग के ये प्रेरक शब्द, आज कई वरिष्ठों से संबंधित है। अधिक से अधिक वरिष्ठ – जो  60 वर्ष की आयु से ऊपर हैं अपने आप को स्वस्थ, तंदुरुस्त और अधिक सक्रिय रखते हुए, उम्र बढ़ने को सफलतापूर्वक देख रहे हैं।  हालांकि, जैसेजैसे उनकी उम्र बढ़ती है, वरिष्ठ नागरिकों को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है।

                      विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, दुनिया की लगभग 12 प्रतिशत जनसंख्या 60 वर्ष की आयु से ऊपर है और यह आंकड़ा 2050 तक 22 प्रतिशत हो जाएगा। भारत में, 2016 में सांख्यिकी मंत्रालय द्वारा जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि 60 वर्ष से अधिक आयु के नागरिक,  कुल जनसंख्या का 8.6 प्रतिशत हिस्सा हैं10 वर्षों में,  इसमें 35.5 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है।

                    पिछले 100 वर्षों में, वैश्विक औसत जीवन प्रत्याशा दोगुनी से अधिक हो गई है और  यह अब लगभग 70 वर्ष है। चिकित्सा विज्ञान में तेजी से उन्नति और चिकित्सा सुविधाओं और उपचार तक पहुंच, ने मानव की दीर्घ आयु को बढ़ाया है। इसके अलावा, दुनिया के कई हिस्सों में आर्थिक कल्याण और जन्म दर में गिरावट ने, बढ़ती वरिष्ठ आबादी में योगदान दिया है।

                    भारत में वरिष्ठों की जनसंख्या में वृद्धि, सामान्य जनसंख्या में वृद्धि की तुलना में अधिक रही है, जिससे वरिष्ठों की संख्या तीव्रता से बढ़ी है। चाहे सामाजिक, आर्थिक या चिकित्सा हो, उम्र बढ़ने की आबादी के दूरगामी निहितार्थ हैंजैसे-जैसे लोगों की उम्र बढ़ती है, कई मुद्दे सामने आते हैं। जैसे गतिशीलता में कमी, उम्र से संबंधित बीमारियां और शर्तें, देखभाल करने वालों की आवश्यकता, वित्तीय चिंताएं, निर्भरता, हानि, दुरुपयोग की संभावना और अकेलेपन का तेजी से बढ़ना हैं। भारत की लगभग 75 प्रतिशत आबादी ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है, जिसका अर्थ है कि प्रत्येक चार में से एक  वरिष्ठ,  शहरी और तीन ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाला है और दोनों वर्गों की अपनी एक विशिष्ट चिंताएं  हैं, जिसपर ध्यान देने  की आवश्यकता है।

                          कई  मुद्दे उम्र बढ़ने से संबंधित हैं और इन्हें, व्यक्तियों, समुदायों, गैर-सरकारी संगठनों और सरकार द्वारा, समझ, संकल्प और सबसे ऊपर, सहानुभूति के साथ, संगठित समाज के रूप में निपटाया जाना चाहिए।  क्या हम वरिष्ठों की बढ़ती हुई जनसंख्या की चुनौतियों के लिए, एक समाज के रूप में तैयार हैं?

भारतीय समाज में परिवर्तन 

                   भारतीय समाज ने,  पारंपरिक रूप से एक संयुक्त परिवार प्रणाली का पालन किया है, जो वरिष्ठों के सेवानिवृत्ति के बाद के जीवन की सुरक्षा को  सुनिश्चित करती है।  हालांकि, एकल परिवारों की बढ़ती प्रवृत्ति और बच्चों के माता-पिता से दूर रहने के कारण, वरिष्ठों को अक्सर  खुद का बचाव करना पड़ता है, ऐसे समय में उन्हें सबसे ज्यादा मदद की जरूरत होती है। संयुक्त परिवार द्वारा प्रदान की जाने वाली सहायता प्रणाली चरमरा गई है, जिससे वरिष्ठ नागरिकों को परेशान होना पड़ता है और अक्सर स्थितियां दर्दनाक हो जाती हैं।

                     कई भारतीय बच्चे, जो पढ़ाई करने के लिए विदेश जाते हैं, वो वहीं बसने का फैसला करते हैं। इस तरह माता-पिता अपने दम पर जीने के लिए पीछे रह जाते हैं। भारतीय समाज के परिवर्तन में महिलाओं का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। कामकाजी महिलाओं का प्रतिशत बढ़ गया है, जिसके परिणामस्वरूप वृद्ध व्यक्ति की देखभाल के लिए अक्सर घर पर कोई नहीं होता है। आज की प्रतिस्पर्धात्मक दुनिया में, बच्चे भी स्कूल के काम के अलावा इतनी सारी गतिविधियों में व्यस्त हैं कि  दादा-दादी/ नानानानी के लिए उनके पास समय नहीं होता है। बुजुर्गों की देखभाल के लिए धैर्य और समर्पण की आवश्यकता होती है और कई लोगों द्वारा इसे बोझ माना जाता है। एन.जी.ओ हेल्पएज इंडिया द्वारा 15 जून, 2019 को,  किए गए एक सर्वेक्षण में बताया गया है कि बुजुर्गों की देखभाल करने वाले 35 फीसदी लोगों ने कहा कि उन्हें उनकी देखभाल करने में कोई खुशी नहीं होती।

                         हालांकि,  परिवर्तन ही स्थायी  है और सभी को  स्वीकार करना होगा कि सामाजिक संरचना, बुजुर्गों के लिए प्रतिरक्षा नहीं है। इसलिए हमें समाज में इस परिवर्तन के कारण होने वाले मुद्दों को हल करने के तरीके खोजने होंगे और उन्हें संभालने के नए तरीकों को विकसित करना होगा। बदलते पारिवारिक ढांचे का एक परिणाम यह हुआ है कि भारत में सहायक जीविका (असिस्टेड लिविंग) ने आकार लेना शुरू कर दिया है। सरकार द्वारा संचालित वृद्धाश्रम से लेकर पांच सितारा सहायक जीविका समुदायों तक के कई विकल्प, पूरे देश में फैल गए है।

वरिष्ठों द्वारा मुद्दों का सामना करना 

                    वास्तव में, वरिष्ठों को दो समूहों में वर्गीकृत किया जा सकता है – “युवा वरिष्ठ” (60 से 75 वर्ष) और “वृद्ध वरिष्ठ” (75 वर्ष से अधिक)। आज  फिटनेस और स्वस्थ रहने के बारे में बढ़ती जागरूकता के साथ, युवा वरिष्ठ लोग बड़े सक्रिय हैं और अपने दम पर प्रबंधन करने में सक्षम हैं। यह वृद्ध वरिष्ठ हैं, जिन्हें देखभाल करने वालो और सहायता की आवश्यकता होती है।

                    तो, वो मुख्य मुद्दे क्या हैंजिसका, वरिष्ठ सामना करते हैं?  ऐसे तीन प्रमुख मुद्दे जो स्वास्थ्य, वित्त और अकेलेपन से संबंधित हैं। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि इन सभी समस्याओं की जड़ का पता,  वरिष्ठ बनने से पहले ही लगाया जा सकता है। जैसी कि फ्रेड एस्टायर ने टिप्पणी की है , “बुढ़ापा बाकी सब चीजों जैसा ही है। इसे सफल बनाने के लिए, आपको युवा काल से ही शुरुआत करनी होगी”।  यह महत्तवपूर्ण है कि अपने  वृद्धावस्था वर्षों में,  अपनी समस्याओं को न्यूनतम करने के लिए आप युवा अवस्था से ही अपने वित्त की योजना बनाएँ और एक फिटनेस शासन का पालन करें। 

 

 

                    जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, अच्छा स्वास्थ्य अत्यंत महत्वपूर्ण है। उम्र बढ़ने के साथ, शारीरिक बीमारियां अपरिहार्य हैं और इस स्तर पर अच्छी जराचिकित्सा देखभाल प्राप्त करना आवश्यक है। जराचिकित्सा के पांच “I है, जिसमें  बौद्धिक कमजोरी(Intellectual impairment), गतिहीनता(Immobility), अस्थिरता(Instability), असंयम(Incontinence), और आईट्रोजेनिक(Itrogenic) विकार शामिल हैं। वरिष्ठों में,  गिरने का जोखिम बहुत अधिक है और उन्हें गिरने से रोकने के लिए पर्यवेक्षण की आवश्यकता होती है। अन्य बातों के अलावा, दृष्टि की कमी, ऑस्टियोपोरोसिस, शक्ति का ह्रास और दवा के कारण फॉल हो सकता है। फ्रैक्चर/ हड्डियों का टूटना, वृद्ध व्यक्ति को गंभीर रूप से प्रभावित करता है, जिसके कारण वो नीचे की ओर झुक जाते है दर्द प्रबंधन, एक अन्य क्षेत्र है जिसमें, जराचिकित्सा देखभाल की आवश्यकता होती है।

                  अक्सर वरिष्ठों के बीच, शारीरिक स्वास्थ्य की तुलना में, मानसिक स्वास्थ्य अधिक चिंताजनक है। जो लोग दीर्घायु जीते हैं, उनमें अक्सर मनोभ्रंश और अवसाद  जैसी  मानसिक स्थिति अधिक देखी जाती है। अल्जाइमर रोग, मनोभ्रंश का सबसे आम प्रकार है जो स्मरण, भाषा और विचार को प्रभावित करता है। इन सभी स्थितियों में, जल्द से जल्द हस्तक्षेप और मनोवैज्ञानिक परामर्श की आवश्यकता होती है। मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के साथ वरिष्ठों की देखभाल बहुत तनावपूर्ण और मांग वाली हो सकती है।

                 वरिष्ठ नागरिक, जो सामान्य रूप से सक्रिय कामकाजी जीवन से सेवानिवृत्त हुए हैं, उनके लिए वित्त, एक और महत्वपूर्ण क्षेत्र है आरामदायक सेवानिवृत्ति के बाद के जीवन का आर्थिक रूप से आनंद लेने के लिए, भारतीयों के लिए यह आवश्यक है कि जिस समय से आप काम करना शुरू करें, उसी समय से अपने वित्त को सुनियोजित करना शुरू कर दें। उच्च मुद्रास्फीति के स्तर का मतलब है कि आपके द्वारा बचाया गया पैसा, अच्छे जीवन का नेतृत्व करने के लिए पर्याप्त से कम हो सकता है। इसलिए जरूरी है कि विशेषज्ञों से सही सलाह ली जाए और बचत योजना बनाई जाए। बचत के अन्य क्षेत्र, जीवन और स्वास्थ्य बीमा, बच्चों की शिक्षा योजनाएं और चिकित्सा आपात बचत है। वसीयत बनाना और वित्तीय निवेश और पासवर्ड का रिकॉर्ड बनाए रखना भी एक अच्छा विचार है, ताकि गंभीर बीमारी या निधन की स्थिति में, परिवार के सदस्यों को इस जानकारी तक आसानी से पहुंचा जा सके

                         उपरोक्त  बातों में से कुछ, शहरी क्षेत्रों में रहने वाले वरिष्ठों पर ज्यादा लागू होता है,  जिन्होंने संगठित क्षेत्र में काम किया होता है और सेवानिवृत्ति के लाभों का लाभ उठा सकते हैं। हालांकि, ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाली बड़ी जनसंख्या,संगठित क्षेत्र में काम करती है और उनके बाद के जीवन में लाभ के लिए कोई सहारा नहीं होता है इसलिए वे परिवार के सदस्यों पर बहुत अधिक निर्भर रहते हैं। सरकार को, उनके लिए पेंशन और अन्य लाभ प्रदान करने के लिए कदम उठाना होगा।

                        जैसे-जैसे युवा अपने जीवन में अधिक व्यस्त  रहने लगते हैं, वरिष्ठ खुद को अकेला पाते हैं। अवसाद और अलगाव को रोकने के लिए यह महत्वपूर्ण है कि बुजुर्ग, परिवार और दोस्तों के साथ सामाजिक संपर्क बनाए रखें। यदि वो गतिशील हैं, तो वरिष्ठों को अंशकालिक कार्य करने या सामुदायिक गतिविधियों में खुद को शामिल करने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

वरिष्ठों के सामने आने वाली व्यावहारिक समस्याएं

                    जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, व्यक्ति, जीवन के एक चरण से दूसरे चरण में बढ़ता जाता है। जिन चीज़ों को पहले पूरा करना आसान लगता था, अब मुश्किल लगता है। व्यावहारिक रूप से कहें तो वरिष्ठ लोगों को गतिशीलता, खुले स्थानों की कमी, सुरक्षा और उपेक्षा के मुद्दों का सामना करना पड़ता हैं भारत के अधिकांश शहरों में, वरिष्ठ नागरिकों के लिए सड़क पर चलना लगभग असंभव है। अगर फुटपाथ है- जो कि अक्सर नहीं होता है- और अगर होता भी है तो असमान और मरम्मत के लिए ख़ुदा रहता है। इसके अलावा, ट्रैफ़िक अनियंत्रित गति से तेजी से भागता  है, यहां तक ​​कि वरिष्ठों के लिए भी नहीं रुकता है। और अगर वे ट्रैफिक से गुजर कर जाने के लिए योग्य भी होते है, तो ऐसा कोई स्थान नहीं होता जहां वो जा सकें।  हमारे शहरों में पार्कों, उद्यानों और खुली जगहों की भारी कमी है, जहाँ वृद्ध लोग सुरक्षित रूप से कुछ समय बिता सकें वरिष्ठों के लिए नानानानी पार्क, एक अच्छी पहल है, लेकिन इसके लिए कई और चीजों की जरूरत है।

                     वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा, चिंता का एक अन्य क्षेत्र है। वरिष्ठों के घरों में चोरी और यहां तक ​​कि उनकी हत्या के बारे में प्रेस में कई मामले दर्ज किए गए हैं। कभी-कभी,  यह उन लोगों द्वारा किए जाते हैं जो उनकी सुरक्षा के लिए कार्यरत रहते हैं। अकेले रहने वाले वृद्ध, सबसे आसान शिकार होते हैं। स्थानीय पुलिस स्टेशनों के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे उनके घरों की निगरानी के लिए और पर्याप्त सुरक्षा प्रदान करने के लिए सक्रिय कदम उठाएं। पुलिस को, वरिष्ठ नागरिकों द्वारा, मदद का अनुरोध करने और इस अपील पर तत्काल और त्वरित प्रतिक्रिया का आश्वासन देने के लिए, एक तंत्र का निर्माण करने की आवश्यकता है। यह अस्पताल में एक चिकित्सा सहायता के लिए भी लागू होता है, जिससे एम्बुलेंस को तुरंत भेजा जा सकता है और अस्पताल और परिवार के एक सदस्य को, आपात की  स्थिति में तुरंत सतर्क कर सकता है।

                     रोकथाम और उपचार के लिए,  जराचिकित्सा देखभाल, बुजुर्गों के लिए अत्यंत आवश्यक है। यह उन लोगों के लिए आसान है, जो निजी स्वास्थ्य देखभाल के लिए भुगतान कर सकते हैं। हालांकि, सरकारी अस्पतालों को शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में, गरीब मरीजों के लिए जराचिकित्सा देखभाल प्रदान करने के लिए, बेहतर ढंग से सुसज्जित होना चाहिए। बुजुर्गों में, लंबे समय तक बेहतर स्वास्थ्य बनाएँ रखने के लिए, उनके  गिरने के जोखिम को कम करने वाले उपाय, सबसे महत्वपूर्ण योगदान हैं। ये उपाय कुछ हद तक सरल हो सकते हैं, जैसे घर में फर्नीचर की व्यवस्था और चिकित्सा में जटिल बदलाव के लिए वॉकिंग स्टिक या वॉकर का प्रावधान। इसके अलावा, सीढ़ियों पर और सार्वजनिक स्थानों पर पकड़ने के लिए सलाखों या हैंड रेल्स  की स्थापना, साथ ही साथ शारीरिक गतिशीलता को बढ़ाने वाले व्यायाम, अधिक महत्त्वपूर्ण उपाय हैं। 

                        अक्सर, सेवानिवृत्ति का मतलब जमा पूंजी में कमी है और इसका नकारात्मक प्रभाव, स्वास्थ्य देखभाल और पोषण पर पड़ता है। ऐसे मामलों में एक सकारात्मक और सुनियोजित दृष्टिकोण, स्वस्थ जीवन को बनाए रखने में एक लंबा रास्ता तय कर सकता है।

                  मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है और उसे  “साथ” की जरूरत है। अकेले रहना या गतिशीलता की कमी, अलगाव, अकेलापन और अवसाद की तरफ ले जा सकता है इसलिए, परिवार और दोस्तों के लिए महत्वपूर्ण है कि वे वृद्धों के लिए सामाजिक संपर्क प्रदान करने का प्रयास करें  योग, ध्यान, संगीत, खेल, रुचि समूहों में भाग लेने के लिए वरिष्ठों को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए – ऐसा कुछ भी जो वे सामाजिक रूप से सक्रिय रहने के लिए कर सकते हैं इस संदर्भ में, नागरिकों को बाहर जाने और दुनिया के साथ जुड़ने में सक्षम होने के लिए, उन्हें  गतिशील होना आवश्यक है।  संगीत कार्यक्रम कक्ष और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर व्हीलचेयर रैंप और ग्रैब बार,  उन्हें सामाजिक होने के लिए और प्रोत्साहित करेंगे  वरिष्ठों के लिए आरक्षित पार्किंग स्थल और साथ ही साथ सार्वजनिक परिवहन में  आरक्षित सीट और नामित कतारें, उनके जीवन को अधिक सुविधाजनक बनाती हैं।

                       वृद्ध, स्वाभाविक रूप से बच्चों को अच्छी प्रतिक्रिया देते हैं। बच्चे, घर में सकारात्मक ऊर्जा स्तर को बढ़ाते हैं और इसलिए उन्हें,  वृद्धों के साथ समय बिताने के लिए प्रोत्साहित करना आवश्यक है।

                    दुर्भाग्य से, इन दिनों बुजुर्गों के उत्पीड़न और दुर्व्यवहार के अधिक से अधिक मामले  सुनने में आए हैं। परिवार के सदस्य, वृद्ध की संपत्ति को हड़पने के लिए, सभी प्रकार के छल का हारा लेते हैं,  ताकि उन्हें लुभाया जा सके हालांकि, बुजुर्गों के अधिकारों की सुरक्षा के लिए कानून है, लेकिन, अक्सर इसे लागू करना कठिन होता है।

                  निर्भरता एक अन्य मुद्दा है, जो उम्र बढ़ने के साथ बढ़ जाता है। जो लोग आजीवन स्वतंत्र रहते हैं, वो खराब स्वास्थ्य या वित्तीय संकट के कारण दूसरों पर निर्भर हो जाते हैं। इससे भावनात्मक और मानसिक परेशानी हो सकती है, साथ ही शोषण भी हो सकता है।

हम क्या कर सकते है?

                       बुजुर्गों की देखभाल करने में सभी की भूमिका होती है।  वरिष्ठों के संबंध में, परिवार, समुदाय, गैर सरकारी संगठन और सरकार, उनके विभिन्न पहलुओं से निपटते हैं। हालांकि, सबके लिए यह आवश्यक है कि वो सबसे पहले सहानुभूति के साथ, उनके सबसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर जाएं।

                  अक्सर, परिवार के सदस्य, उन वरिष्ठ नागरिकों के लिए, जिनका स्वास्थ्य अच्छा नहीं होता है, उनके प्राथमिक देखभाल-कर्ता होते हैं एक प्यारा देखभाल करने वाला दृष्टिकोण, उन्हें आरामदायक महसूस कराने में, एक लंबा रास्ता तय करेगा। अच्छी जराचिकित्सा देखभाल, समावेशन की भावना और वित्तीय सुरक्षा, उनके जीवन के अंतिम वर्षों को अच्छा बना सकती है। बच्चों को, वरिष्ठों का सम्मान करना और उनके साथ अच्छा व्यवहार करना सिखाना भी, वृद्धों के स्वागत का माहौल बनाने में एक लंबा रास्ता तय करेगा।

                       हमारा समुदाय,  वरिष्ठों के जीवन को बेहतर बनाने में भी योगदान दे सकता है। पौष्टिक भोजन सेवाओं और सामुदायिक गतिविधियों से वरिष्ठ नागरिकों को बहुत मदद मिल सकती है। स्वयंसेवकों द्वारा, समुदाय के सदस्यों की सहायता से, वृद्धों के लिए छोटे-मोटे काम करना, जिससे उन्हें लाभ पहुंचे।  वरिष्ठों के पास,  स्वयं की कौशल क्षमता होती है और उन्हें अपने कौशल को दूसरों के साथ बांटने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है। इससे वरिष्ठ, मानसिक रूप से सक्रिय और सामाजिक रूप से जुड़े रहेंगे।

                     गैरसरकारी संगठन, बुजुर्गों के मुद्दों को हल करने में और उनके सामने आने वाली समस्याओं के बारे में समाज को शिक्षित करने में,  बड़ी भूमिका निभाते हैं। वे वरिष्ठों को उनके स्वास्थ्य और सुरक्षा के बारे में सलाह देते हैं और स्वयंसेवकों को उनकी मदद करने के लिए प्रशिक्षित करते हैं। कुछ गैर-सरकारी संगठन,  वृद्धों का घर चलाने के अलावा,  परामर्श और सहायता के साथ-साथ, बुनियादी चिकित्सा सेवाएं भी प्रदान करते हैं।

                     वरिष्ठों का समर्थन करने में सरकार की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है। 1999 में, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा एक राष्ट्रीय नीति बनाई गईजिसका उद्देश्य वरिष्ठ नागरिकों को सुरक्षा और सम्मान के साथ जीने में मदद करना था हालांकि, हेल्पएज इंडिया की रिपोर्ट में यह दर्ज है कि बुजुर्गों के खिलाफ अपराध बढ़ रहे हैं। यह अपराध शारीरिक, भावनात्मक, यौन, वित्तीय या सिर्फ उपेक्षा हो सकते है। समाज के सभी क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर दुर्व्यवहार होता है और परिवार के सदस्य और बाहरी लोग, दोनों द्वारा उनके साथ बुरा व्यवहार किया जाता है। यह महत्वपूर्ण है कि अपराधियों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की जाए और इस तरह के अपराधों को रोकने के लिए हर संभव प्रयास किया जाए।

                      सरकार ने, बुजुर्गों के परित्याग करने पर,  दंड प्रावधानों के साथ, बुजुर्गों के अधिकारों की सुरक्षा के लिए, माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों के रखरखाव और कल्याण अधिनियम 2007, को लागू किया है। ( http://socialjustice.nic.in/writereaddata/UploadFile/Annexure-X635996104030434742.pdf )      सरकार की कई मंत्रालय, जैसे कि ग्रामीण विकास, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, वित्त, गृह मामले, रेलवे और नागरिक विमानन के तहतवरिष्ठों के लिए पेंशन और लाभ योजनाओं और कार्यक्रमों को लागू करती है। ( https://www.india.gov.in/people-groups/life-cycle/senior-citizens) प्रधानमंत्री वाया वंदना योजना (पी.एम.वी.वी.वाई), 2017 में शुरू की गई, एक हालिया पेंशन योजना है,और इसे LIC द्वारा संचालित किया जाता है हालांकि, कानून और सरकारी योजनाएं तैयार की गई है, लेकिन वरिष्ठ नागरिकों को दिन-प्रतिदिन की चुनौतियों का सामना करने में मदद करने के लिए,  बहुत कुछ करने की आवश्यकता है।

यहां सूचीबद्ध कुछ चीजें है, जो वरिष्ठ नागरिकों के जीवन और संपत्ति की सुरक्षा के लिए की जा सकती हैं।

  • वरिष्ठ नागरिकों के लिए सुरक्षा सेल और समर्पित टोल-फ्री हेल्पलाइन का निर्माण।
  • पुलिस स्टेशनों के पास, अपने क्षेत्र के सभी वरिष्ठ नागरिकों के व्यापक दस्तावेज होने चाहिए, चाहे वे अकेले या संयुक्त परिवारों में रह रहे हों और साथ ही शीघ्र सहायता प्रदान करने के लिए एक तंत्र भी होना चाहिए। 
  • बुजुर्गों के निवास स्थान पर नियमित रूप से दौरा करना और उनको सुरक्षा प्रदान करने के लिए दिन और रात, दोनों के दौरान गश्त करना।
  •  वरिष्ठ नागरिक, जो अकेले रहते है, उनके घरेलू सहायक की जांच और पंजीकरण पुलिस द्वारा की जानी चाहिए।
  • पुलिस द्वारा सुरक्षा प्रहरियों का सत्यापन करना।
  • अतिरिक्त सुरक्षा के लिए सुरक्षा प्रणालियों की स्थापना करना।
  • क्षेत्र के वरिष्ठ नागरिकों  और पुलिस के बीच नियमित बातचीत
  • आपातकालीन सहायता के दौरान, परिवार को तत्काल सहायता और सतर्क करने के लिए, पास के अस्पताल में वरिष्ठ नागरिकों को पंजीकृत होना चाहिए।
  • वरिष्ठ नागरिकों के खिलाफ दुर्व्यवहार या अपराधों की शिकायतों के लिए फास्ट-ट्रैक अदालतें होनी चाहिए।

वरिष्ठ, यदि कुछ Do & Don’ts का अनुसरण करते हैं, तो स्वयं की सुरक्षा में योगदान कर सकते हैं।

  • पुलिस स्टेशनों, अस्पतालों, अग्निशमन केंद्रों, परिवार के डॉक्टर का फोन नंबर या आपातकालीन चिकित्सा सेवाओं और विशेष हेल्पलाइन नंबरों के फोन नंबर की पर्ची बना कर रखें।
  • यदि अकेले रहते हैं तो अपने पड़ोसियों और अपने आवासीय समाज के प्रबंधक को भी सूचित करें।
  • अपने दरवाज़ों को खुला न छोड़ें और घर में सुरक्षा के उपाय सुनिश्चित करें।
  • समान पहुँचाने वाला व्यक्ति या किसी उपयोगिता कंपनी या अन्य स्थानीय व्यवसाय से आने वाले व्यक्तियों की उचित पहचान के बारे में पूछे, संदेह की स्थिति में क्रॉस चेक करें।
  • अगर आपको कोई कॉल करे तो, उसे व्यक्तिगत जानकारी ना दे, विशेष रूप से बैंक खाते या क्रेडिट कार्ड की सूचना
  • फोन पर कभी भी, इस बात की जानकारी का संकेत ना दे कि आप अकेले रहते हैं या किसी निश्चित समय पर आप घर पर नहीं होंगे।
  • घर में बहुत अधिक नकद / आभूषण / बहुमूल्य वस्तु न रखें।
  • कभी भी अतिरिक्त कुंजी या मूल कुंजी को खुले में न छोड़ें।
  • कर्मचारी को घर में नियुक्त करने से पहले, उसकी प्रामाणिकता की जांच, निकटतम पुलिस स्टेशन से करें।

                          अंत में, प्रत्येक व्यक्ति अलग है और हर व्यक्ति अपने तरीके से बुढ़ापे को संभालता है। हालांकि, जीवन के प्रति किसी का रवैया, बाद के वर्षो में उसके जीवन की गुणवत्ता में योगदान देता है। सकारात्मकता, दूरदर्शिता और अनुशासन के साथ, वृद्धावस्था की ओर बढ़ता हुआ एक  वरिष्ठ, खुशहाल और संतुष्ट जीवन जी सकता है जैसा कि हेनरी डेविड थोरो ने कहा था, “कोई भी व्यक्ति इतना बूढ़ा नहीं होता, जितना उत्साह खो देने वाले होते हैं ”। यह तय करना प्रत्येक व्यक्ति पर निर्भर करता है कि वह कितने साल का है और वह क्या चाहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *