सर्दियों का सुखद अंत! 14 जनवरी, 2021 – एक संवाददाता द्वारा

पूरे भारत में इसे उत्तरायण, लोहड़ी, पोंगल या बिहू कहा जाता है, यह सर्दियों के अंत का जश्न मनाने वाला त्योहार है

मकर संक्रांति या माघी, ये एक त्योहार सूर्य देवता को समर्पित है। यह प्रत्येक वर्ष जनवरी में मनाया जाता है। यह हमेशा 14 जनवरी को होता है, क्योंकि यह एकमात्र भारतीय त्योहार है जो सौर कैलेंडर पर आधारित है; इस साल कुछ हटकर हुआ है जब यह 15 तारीख को आया है ।

                      मकर से तात्पर्य मकर राशि से है, और संक्रांति का अर्थ है परिवर्तनकाल, इस मामले में दक्षिणायन से अधिक शुभ उत्तरायण तक ।

                            यह पूरे भारत में तिल और गुड़, पतंगबाजी, बानफायर (अलाव), मेले, फसल के उत्सव के साथ बनाई गई मिठाइयों की छवियों को दर्शाता हैं। यह सूर्य के पारगमन के पहले दिन की सर्दियों की अंतिम मकर संक्राति हैं, जहाँ लंबे दिनों की शुरुआत हो जाती हैं। लोग पवित्र नदियों में डुबकी लगाते हैं और सूर्य और सरस्वती से भी प्रार्थना करते हैं।

                       यह एकमात्र दिन है जब सूर्य मकर राशी में अपने पुत्र शनि से मिलता है या मकर राशि में होता है। यह पिछली शिकायतों को भूलने और सद्भावना फैलाने के लिए एक स्मरणपत्र है । भीष्मचार्य सूर्य के उत्तरायण में प्रवेश करने तक बाणों की शय्या पर लेटे रहे और फिर अपने प्राण त्याग दिए  इसलिए उत्तरायण को मरने का एक शुभ समय भी माना जाता है।

                             महाराष्ट्रीयन  लोगों  के लिए, संक्रांति का अर्थ है तिलगुड़ और हलवा बनाना और इसे दोस्तों और परिवार में बाँटना। सर्दियों में तिल खाना अच्छा होता है क्योंकि यह शरीर को पोषण देता है और गर्मी प्रदान करता है। महिलाएँ अपनी सखियों और बच्चों को हल्दी-कुंकू करती है। महाराष्ट्रीयन में दो अवसर ऐसे होते हैं जिन पर महिलाएँ काली साड़ी पहनतीं हैं। नवजात शिशु के नामकरण संस्कार पर या नवजात बच्चे की सलाखें पर , अन्य संक्रांति हलदी-कुंकु के लिए है । काले रंग का उपयोग संभवतः इसलिए किया जाता है क्योंकि यह सूर्य की किरणों को अवशोषित करता है और गर्मी बरकरार रखता है। सुहागन महिलाएँ दोस्तों और पुजारियों को गेहूँ, गन्ने के टुकड़े, कपास, हलकुंडा या पूरी सुखी हुई हल्दी भेंट करती हैं।

                   तिल के लड्डू के अलावा गोल पोली या चपातियों के साथ तिल, गुड़ और सूखे नारियल का मिश्रण बनाया जाता है।

                 स्वास्थ्यप्रद, तिल आपके शरीर के लिए अच्छा है, चाहे वह तेल की मालिश के रूप में हो या उसमें मौजूद प्राकृतिक कैल्शियम के लिए, इसे खाएं। कैल्शियम की गोलियों की तुलना में हड्डियों के लिए हर दिन एक मुट्ठी भर तिल खाना बेहतर है। इसे सलाद पर छिड़कें, इसे पके हुए खाने पर डालें या इसे अपने तड़के में उपयोग करें।

                            चाहे वह उत्तरायण , लोहड़ी, पोंगल या बिहू कहलाए यह सर्दियों के अंत का जश्न मनाने वाले त्योहार है।

                       महाराष्ट्र में, हम कहते हैं, “ तिलगूल घ्या, अनी गोड गोड बोला,” इसका अर्थ है मेरे पास से तिल गुल(गुड़) लें और अपनी वाणी और आवाज़ को मिठास से भर दो ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *