दीर्घायु होने के तीन स्तंभ

अपने जीवन का आनंद ले और लंबे समय तक जिये,  आप अपने स्वास्थ्य को लेकर, आज जो निर्णय लेते है, वो आपको दीर्घायु होने में सहायता करेगा

आज, आप जिस प्रकार से अपना ख्याल रखते है, भविष्य में इसका प्रभाव देखने को मिलेगा। हालांकि, क्या लंबा जीवन जीने का मतलब है, उन सारी मस्ती भरी चीजों का त्याग कर देना, जो आप करना चाहते है? क्या इसका मतलब है, आपकी सूची से अपने सभी चीजों को मना कर दे और एक बेरंग जिंदगी जिये? खैर, अपने आप को बंधन में रखने की धारणा बहुत पुरानी हो गई है। आज, बहुत सारे विकल्प है, जो आपके मानसिक और शारीरिक क्षमताओं में सुधार और संतुलित करने  में सहायता करता है, जो आपको दीर्घायु होने में बढ़ावा देता है।

ऐसे तीन  स्तंभ है, जो हमारे स्वास्थ्य और भलाई के लिए अतिआवश्यक है। इन स्तंभों को प्राथमिकता देंगे, तो ये आपको आसान और न्यूनतम प्रतिबंधित जीवन जीने के लिए लचीलापन प्रदान करेगा।

स्तंभ #1 निद्रा

अच्छी रात्री निद्रा लेना अतिआवश्यक है। आपके संज्ञानात्मक स्वास्थ्य, प्रतिरोधक क्षमता प्रणाली को मजबूत करने और इसका पुनः निर्माण,  हृदय रोगों के खतरों को कम करने, स्वस्थ रक्त-चाप को बरकरार रखने और तनाव को दूर करने के लिए, यह सबसे प्रमुख कारक है।

वर्ल्ड जर्नल ऑफ गैस्ट्रोएंटरोलॉजी के एक अध्ययन में यह पाया गया है कि नींद की कमी सूजन आंत्र रोग( Inflammatory Bowel Disease)  के योगदान में कारक है। अच्छी नींद को, स्वस्थ कैलोरी विनियमन से जोड़ा जाता है। आपके सोने का तरीका,  आपके पाचन शक्ति को प्रभावित करता है। जब आप पर्याप्त नींद लेते हैं, तो आपका शरीर कैलोरी सेवन को बेहतर ढंग से नियंत्रित करने में सक्षम होता है।

जर्नल ऑफ स्लीप रिसर्च के एक अन्य अध्ययन में यह पाया गया कि प्रतिभागियों ने कम भावनात्मक सहानुभूति दिखाई, जब उन्हें पर्याप्त रात्री निद्रा नहीं मिली।

जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, आपके सोने के तरीके में बदलाव आता है। आपका शरीर शाम को जल्दी मेलाटोनिन (नींद का हार्मोन) स्रावीत करता है, आप अपने आप को सूरज डूबने जैसा थका हुआ महसूस करते हैं। आप यह पाते हैं कि आप आसानी से जाग जाते हैं और अच्छी निद्रा भी नहीं आती  है।

यहां कुछ तरीके हैं, जिससे आपके नींद चक्र को बेहतर और नियमित कर सकते है:

  1. शाम की चाय और कॉफी पीने से बचें।
  2. सोने से पहले शराब पीने से बचें। हालांकि, यह आपको नींद से भरा महसूस करवा सकती है। परंतु, यह आपकी नींद की गुणवत्ता को और खराब कर सकता है।
  3. कुछ समय धूप में बिताएं। यह आपके सर्कैडियन रिद्धम (सोने-जागने के चक्र को नियमित करने की प्रक्रिया) को नियमित करता है और आपको बेहतर नींद में सहायता करता है।
  4. यदि घबराहट, आपकी निद्रा में अत्यंत खलल डाल रही है, तो एक मनोवैज्ञानिक से मिलना सहायक होगा। एक मनोवैज्ञानिक, आपको बहुत सारे मानसिक तकनीक बता सकता है, जो आपको सोने में मदद करेगा।
  5. नींद के प्रारूप को बरकरार रखना, समय पर सोना और जागना- आपकी नींद की गुणवत्ता को बनाए रखेगा।

स्तंभ #2 व्यायाम

अपने शारीरिक और संज्ञानात्मक कार्य की सुरक्षा के लिए, नियमित रूप से व्यायाम करना,  एक अतिआवश्यक अभ्यास है। नियमित रूप से व्यायाम करने का दृश्यमान लाभ यह है- स्वस्थ शरीर, मजबूत मांसपेशियां,  बार-बार गिरने के ख़तरे में कमी, लचीलापन बढ़ना, और कोलेजन का उत्पादन,  जिससे झुर्रियों  में कमी  आना।

मानसिक स्वास्थ्य के लिए, व्यायाम, मनोदशा में उछाल  लाता है (मूड बूस्टर)। इसका सकारात्मक प्रभाव, आपकी भावनाओं पर होता है और अवसाद और चिंता को काफी हद तक रोकने में मदद कर सकता है।

व्यायाम का सबसे अच्छा प्रारूप, प्रतिदिन 30 मिनट पैदल चलना है। चलने के साथ, एकान्तर  दिनों पर एक लो-इम्पैक्ट व्यायाम परिक्रमा, शारीरिक शक्ति और मांसपेशियों को बनाए रखने में मदद करता है।

जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, मांसपेशियों में कमी होती है और आपका शरीर कठोर हो जाता है। नियमित व्यायाम आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने और नींद की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद करता  है।

स्तंभ #3 सामाजिक बनना

समय तेजी से बीतता है जब आप खुश होते है। अपने दोस्तों के साथ समय बिताने से ज्यादा अच्छा कुछ नहीं है। दोस्ती, संपर्क, संबंध को बरकरार रखना आपके संज्ञानात्मक और शारीरिक स्वास्थ्य पर बहुत अच्छा प्रभाव डालती है। जो लोग अपने प्रियजनों के साथ निकट सम्बंध रखेंगे, वो चिकित्सा स्थितियों का बेहतर तरीके से सामना कर पाएंगे।

सामाजिक जीवन, डीमेनसिया(Dementia), अवसाद और अकेलेपन के ख़तरे को कम कर सकता है। जैसे-जैसे आप बुढ़े होंगे, मित्रों और परिवार के संपर्क में रहना कठिन हो सकता है। परंतु,  इंटरनेट (जो एक अपरिहार्य उपकरण हैं)  के साथ आज हम पूरी दुनिया में अपने प्रियजनों के संपर्क में रह सकते है।

पुराने दोस्तों के साथ फिर से जुड़ने और एक अच्छी हंसी साझा करने में कभी देर नहीं होती। शायद आपको  यह पता नहीं चलता है कि अपने दोस्तों से बात करना या अपने पड़ोसी के साथ बातचीत करना, वास्तव में, आपकी लंबी उम्र में सुधार कर रहा है।

अच्छी निद्रा लेना, व्यायाम और सामाजिकरण- डिजिटल या शारीरिक रूप से, ये तीन स्तंभ है जो आपके सुखी लंबी जीवन जीने में सहायता करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *