क्रिसमस की पूर्व संध्या पर परंपराएं 30 दिसंबर, 2020 – एक स्टाफ लेखक दवारा

24 दिसंबर को कुछ पुरानी रिवायतें देखी गईं जो कभी ख़त्म नहीं होती

हालांकि इस साल का असर कई रीति-रिवाजों पर पड़ा, कुछ परंपराओं का पालन किया गया था जो इसके बावजूद रखी गई थीं; क्योंकि इसमें  विशेष रूप से यीशु(ईसा मसीह )का जन्म शामिल था।

आइए उनमें से कुछ पर नज़र डालें:

अर्धरात्रि की प्रार्थना सभा

प्रभु यीशु के जन्म में घोषित करने के लिए अर्धरात्रि की प्रार्थना सभा करने की रिवायत है। क्रिसमस की पूर्व संध्या पर, पूरे परिवार ने आधी रात के जनसमूह में भाग लिया है। भारत में चर्चों को अर्धरात्रि की प्रार्थना सभा के लिए पाइनसेटिया फूलों और मोमबत्तियों से सजाया गया। यह उन लोगों के लिए भी लाइव प्रसारित किया गया जो इसे चर्च में सीमित संख्या के कारण नहीं आ सकते थे।

ऊपर पार्लर में मैं बैठी खूबसूरत

क्रिसमस पोशाक में सजने से पहले उपलब्ध हर ग्रूमिंग सर्विस के लिए एक सीधे रास्ते का पारंपरिक रूप से अनुसरण किया जाता है। यदि वर्ष में केवल एक दिन होता सैलून जाने का तो क्रिसमस की पूर्व संध्या वह दिन होता!

एक आधी रात का पर्व

परिवार और दोस्तों के साथ सामूहिक रूप से घर पर खाना बनाना और खाना। यहाँ, शराब और रम से भरा हुआ केक और कुछ मनोरम पूर्व क्रिसमस दावतें भोजनसूची में थीं। मिश्रित भावनाओं और उदासीनता ने इस परंपरा को खत्म कर दिया क्योंकि महामारी के कारण कई लोग इस क्रिसमस पर परिवार के साथ बाहर नहीं जा सके। साथ ही, जिन प्रियजनों ने इस साल अपने परिवार के सदस्यों की जान गंवाई वे दुखी थे ।

कैरल (ईसाई भजन) गायन या मंगलाचरण गीत

अर्धरात्रि की प्रार्थना सभा से पहले क्रिसमस के त्योहार के भजन और मंगलाचरण गीत गाए गए । गाना मंडली का सुर उनके शीर्ष पर था ,वे सब एक सुर में गा रहे थे, मानो ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे स्वर्गदूत स्वर्ग से उतर आए हैं, इस पवित्र जनसमूह में गाने के लिए ।

– पेड़, रोशनी, सितारे, और अधिक कैरल गीत …

प्रत्येक घर में, पेड़ को अंतिम चरण पर पहुँचाने की होड़ लगी हुई थी । क्रिसमस लाइट्स के तारों ने इस क्षेत्र को सुशोभित किया और एक बड़ी खूबसूरती से जगमगाता सितारा घर के बाहर या पेड़ों पर लटका हुआ था। इसका महत्व उस तारे से संबंधित है जो बेथलहम के तबेले(मसीह के जन्म के स्थान) के ऊपर चमक रहा था और जो तीन राजा यशु को ढूंढने निकले थे उनको राह दिखा रहा था ।

– उपहार देना (और प्राप्त करना!)

अधिकांश ईसाई  अर्धरात्रि  के बाद और क्रिसमस दिवस से पहले उपहारों का आदान-प्रदान करते हैं। वास्तव में पूरा त्योहारेक दूसरे के घर में जाने को चिन्हित करता है ,मिठाइयों को चखने और एक दूसरे के लिए सदभावना और उपहारों का आदान-प्रदान का समय होता है।

इनके अलावा, ऐसी परम्पराएँ हैं जो उन परिवारों के लिए विशिष्ट हैं जो समय-समय पर पीढ़ियों के माध्यम से सम्मानित होते हैं – और वे क्रिसमस की पूर्व संध्या पर मनाया जाता है। कुल मिलाकर, यह एक शांत समय था – एक वर्ष को ध्यान में रखते हुए जिसने बहुत आत्मनिरीक्षण और कठिन तपस्या की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.